सिंहस्थ घोटाला, EOW ने 2 मामले दर्ज किए : मध्यप्रदेश

सिंहस्थ घोटाला, EOW ने 2 मामले दर्ज किए : मध्यप्रदेश

774
0
SHARE
  • भाजप के शिवराज के मध्यप्रदेश में घोटाले थम नहीं रहे, एक के बाद एक घोटाले सामने आ रहे है.
File Image
File Image
  • सिह्स्थ के कुंभ मेले को भी शिवराज के अधिकारिओ ने नहीं छोड़ा, धार्मिक व्यवस्था में भी कई घोटाले सामने आये है.
  • भोपाल: सिंहस्थ घोटालों की जांच शुरू हो गई है। Economic Offences Wing ने सिंहस्थ में हुए दर्जनों घोटालों में से 2 मामलों को संज्ञान में लेते हुए मामला दर्ज किया है।

113

  • पहला है पंचक्रोशी यात्रा मार्ग पर 3.42 करोड़ रु के टॉयलेट निर्माण में गड़बड़ी व दूसरा विद्युत वितरण कंपनी द्वारा बिजली पोल लगाने व निकालने के अलग-अलग ठेके देने का मामला। दोनों मामलों में जिला पंचायत उपाध्यक्ष भरत पोरवाल ने ईओडब्ल्यू को शिकायत की थी। सिंहस्थ में हुए भारी भ्रष्टाचार में यह केवल 2 छोटे मामले हैं।
  • पहला प्रकरण 
    पंचकोसी यात्रा मार्ग और पड़ाव पर 3700 टॉयलेट बनाने थे। मॉनीटरिंग और कार्य की गुणवत्ता का दायित्व नगर निगम के सहायक यंत्री पीयूष भार्गव का था। टॉयलेट उचित गुणवत्ता के नहीं बनाए गए। नंबरिंग, लाइट लगाना, आसपास चूरी डलवाने सहित सफाई के इंतजाम भी नहीं किए। ऐसे में पंचक्रोशी यात्रियों को असुविधा का सामना करना पड़ा। पड़ाव स्थलों पर निरीक्षण पंजी में भार्गव की टीप भी नहीं पाई गई। जिला पंचायत सीईओ रुचिका चौहान की जांच रिपोर्ट में भी टॉयलेट का निर्माण घटिया तरीके से होना बताया गया है। लापरवाही के लिए नगर निगम के सहायक यंत्री पीयूष भार्गव को दोषी माना है।

Simhastha Maha Kumbh Mela

  • दूसरा मामला 
    सिंहस्थ में मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा 37 करोड़ रुपए से बिजली के पोल लगाने का ठेका दिया गया था। पोल पर नंबरिंग नहीं की गई। कंपनी ने रजिस्टर्ड 60 ठेकेदारों में से मात्र 8 से काम करवाए। इसके अलावा पोल निकालने के लिए अलग से करीब 4 करोड़ रुपए का ठेका दिया गया। इससे शासन को आर्थिक नुकसान हुआ। प्रारंभिक रूप से बिजली कंपनी के अधीक्षण यंत्री एनसी गुप्ता को जिम्मेदार माना गया है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY