मौका परस्त हे केजरीवाल, पाटीदारो का ” AAP ” को कोई समर्थन...

मौका परस्त हे केजरीवाल, पाटीदारो का ” AAP ” को कोई समर्थन नहीं :: हार्दिक पटेल

हार्दिक ने कहा सिर्फ मौका परस्त लोग पे भरोसा नहीं, और केजरीवाल मौका परस्त है....

3210
0
SHARE
Hardik Patel Slape To AAP

गुजरात :: आम आदमी पार्टी के लिए सियासत में विस्तार करने के लिए दूसरे राज्यों में अपनी जमीन बनानी जरूरी है। इसी कोशिश में दिल्ली के बाहर दूसरे राज्यों में चुनावी संभावनाओं को टटोला जा रहा है। दिल्ली से सटे पंजाब में तो आम आदमी पार्टी ने चुनाव लड़ने का फैसला कर ही लिया है। उसके बाद गोवा में भी चुनावी ताल ठोक दी है। अब आप का अगला टारगेट गुजरात है।

गुजरात में अपना आधार बनाने के लिए अरविंद केजरीवाल ने फिर से मोदी विरोध गुट का सहारा लेने की कोशिश की। केजरीवाल ने पटेलों को आरक्षण देने की मांग कर रहे पाटीदार नेता Hardik Patel का समर्थन कर दिया। उन्हे उम्मीद थी कि हार्दिक पटेल का समर्थन करने से पटेल समुदाय का समर्थन मिल जाएगा। लेकिन केजरीवाल की इस रणनीति पर खुद हार्दिक पटेल ने पलीता लगा दिया।

आपको बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने Hardik Patel का समर्थन करते हुए एक वीडियो संदेश जारी किया था। इसमें उन्होने कहा था कि हार्दिक पटेल पर देशद्रोह का केस लगाया गया है। उसने देश तोड़ने की बात या फिर देश के खिलाफ कोई बात नहीं की थी। वो तो पटेलों के लिए आरक्षण की मांग कर रहे थे। केजरीवाल ने इस मामले में बीजेपी नेता एकनाथ खड़से को निशाने पर लेते हुए कहा कि खड़से के ऊपर देशद्रोह का केस चलना चाहिए।

अरविंद केजरीवाल ने गुजरात में सियासी जमीन मजबूत करने के लिए हार्दिक पटेल को खाद समझा था। लेकिन Hardik Patel का जो बयान अब सामने आ रहा है वो केजरीवाल के लिए किसी झटके से कम नहीं है। हार्दिक पटेल अपने समर्थन में केजरीवाल के बयान से ज्यादा उत्साहित नहीं है। इस के पीछे क्या पाटीदारों की सियासी विरासत का मुद्दा तो नहीं है।

अरविंद केजरीवाल जानते हैं कि गुजरात में पटेलों का बहुत बड़ा वोट बैंक है। Hardik Patel के समर्थन में जिस तरह से लाखों लोग सड़कों पर उतर आए थे। वो सभी समर्थक इस वक्त नेता विहीन हैं। गौर करने वाली बात ये है कि हार्दिक पटेल पिछले कई महीनों से जेल में बंद है। पहले तो केजरीवाल ने हार्दिक पटेल का समर्थन नहीं किया। अगले साल होने वाले गुजरात चुनाव को देखते हुए केजरीवाल ने ये दांव चला था।

शायद इसका अंदाजा Hardik Patel को भी लग गया था। वो नहीं चाहते हैं कि उनकी जमीन पर कोई और सियासत की फसल काटकर चला जाए। इसीलिए वो अरविंद केजरीवाल के समर्थन को ज्यादा भाव नहीं दे रहे हैं। यही कारण है कि हर मुद्दे पर जेल से चिट्ठी लिकर अपनी राय देने वाले हार्दिक पटेल इस बार शांत हैं।

अदालत में पेशी के लिए लाए जाते समय पत्रकारों ने हार्दिक पटेल से अरविंद केजरीवाल को समर्थन को लेकर सवाल किया था। लेकिन हार्दिक ने उस पर अपनी राय देने से इंकार कर दिया। अरविंद केजरीवाल जो ये सोच रहे थे कि Hardik Patel उनका धन्यवाद करेंगे वो इस से परेशान तो जरूर हुए होंगे। केजरीवाल पर कुछ ना बोलकर हार्दिक पटेल कई संकेत दे गए हैं। इन संकेतों में भविष्य की झलक मिल रही है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY