अच्छे दिन: भूखे गरीबों ने लूटा अनाज, भाजप की मोदी सरकार चुप...

अच्छे दिन: भूखे गरीबों ने लूटा अनाज, भाजप की मोदी सरकार चुप ?

7968
0
SHARE
  • मेहेंगाई आम हो चुकी है, जनता का बजेट बिगड़ा है, दाल से ले के चावल तक, खाध्य तेल से ले के गेस तक, पेट्रोल डीजल पर टेक्स का बोज़ और दूध के भाव की बढ़ोतरी की वजह से आज आम जनता को तकलीफ सहनी पड़ी है.
  • मध्यमवर्गीय और गरीबो के मुह से निवाला छिना जा रहा है, जनता बेहाल है उसी में आज ऐसा किस्सा नजर आ रहा है जो आपने सोचा नहीं होगा..

उत्तरप्रदेश:: उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जनपद के एक गांव में खाद्यान्न के लिए दर-दर भटक रहे गरीब महिलाओं और पुरुषों ने सरकारी राशन की दुकान पर धावा बोलकर 91 क्विंटल खाद्यान्न लूट लिया और विरोध करने पर कोटेदार की पिटाई भी कर दी गई। इस घटना से जिले के कोटेदारों में हड़कंप मचा हुआ है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस शनिवार को गांव में छापा मारकर आधा दर्जन महिलाओं को घरों से उठा लाई और लूटा गया कुछ क्विंटल खाद्यान्न भी जब्त कर लिया।

सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान (कोटा) पर पुलिस को तैनात कर दिया गया है। वेलफेयर प्राइस शॉप डीलर्स एसोसिएशन के हमीरपुर मंडल अध्यक्ष धर्मवीर सिंह ने खाद्यान्न लूटपाट की निंदा करते हुए पुलिस के पहरे में खाद्यान्न वितरण कराए जाने की मांग की है।

हमीरपुर जिले के राठ कोतवाली क्षेत्र के लींगा गांव में सरकारी सस्ते गल्ले के कोटे से खाद्यान्न वितरण हो रहा था, तभी सैकड़ों महिलाएं और पुरुष कोटे पर धावा बोलकर गेहूं, चावल और चीनी लूटने लगे।

महिलाओं ने पिटाई कर दी

कोटेदार हरचरन अहिरवार जब भीड़ को मना करने के लिए आगे बढ़ा तो उसकी महिलाओं ने पिटाई कर दी। बताया जाता है कि कोटे में रखा 41 क्विंटल गेहूं, 50 क्विंटल चावल व 2 क्विंटल चीनी के साथ ही गल्ले में रखे 7300 रुपये भूखे गरीब लूट ले गए, जिसकी रिपोर्ट भी पुलिस में दर्ज करा दी गई है।

इस वारदात से समूचे क्षेत्र के कोटेदारों में हड़कंप मचा हुआ है। घटना की सूचना पर एसडीएम मो. रिजवान ने सीओ के साथ घटनास्थल का निरीक्षण किया। कोटेदार का कहना है कि सूबे के मुखिया अखिलेश यादव की मंशा के तहत अंत्योदय व पात्र गृहस्थी के लाभार्थियों के लिए कोटे में रखा 91 क्विंटल खाद्यान्न व सात हजार तीन सौ रुपये कुछ शरारती तत्वों के भड़काने पर भीड़ ने लूट लिया है।

कोटेदार की तहरीर पर गांव के शिवकुमार, राममिलन, रूपा, रामकरन, खलक, ब्रजेंद्र, रामसखी, चंदा देवी, संगीता, विचार, माला, मीरा सहित एक दर्जन से ज्यादा लोगों के अलावा कई अज्ञात के खिलाफ पुलिस ने गंभीर धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है।

पुलिस गांव में छापा मारकर आधा दर्जन महिलाओं को घर से उठा लाई है। उनके घरों से कुछ कुंतल लूटा गया खाद्यान्न भी बरामद कर लिया गया है। पुलिस की इस कार्रवाई से गांव में अफरातफरी मची हुई है।

प्रभारी जिला पूर्ति अधिकारी अमित त्रिवेदी ने कहा कि सत्यापन के दौरान निरस्त किए गए लाभार्थियों के आए दिन दबाव बनाने से जिले के कोटेदार परेशान है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY