भाजपा की मोदी सरकार का ” महा घोटाला ” 45000 करोड़ का...

भाजपा की मोदी सरकार का ” महा घोटाला ” 45000 करोड़ का घोटाला :: CAG रिपोर्ट

सरकारी तिजोरी से उद्योगपति ओ को क्यों फायदा पहोचा रही है मोदी सरकार ??

64256
2
SHARE
BJP TELECOM SPECTRUM SCAM OF 45000 CRORE : CAG

– क्या रविशंकर प्रसाद से इस कारन से टेलीकोम डिपार्टमेंट छीन लिया गया है ?

– रविशंकर प्रसाद को हटाना और उससे टेलीकोम मिनिस्ट्री छीन गई क्यों ?

नईदिल्ली :: भाजपा की नरेन्द्रमोदी सरकार ने 2014 में घोटाले के नाम पे वोट लेके बहुमति की सरकार बनायीं… ” ना खाउगा ना खाने दुगा ” के सूत्र से मोदी सरकार को जनता ने समर्थन देके 30 साल के बाद भारी बहुमत की सरकार बनी..

सरकार बन्ने के बाद घोटाले थम नहीं रहे, एक के बाद एक घोटाले केंद्र की मोदी सरकार के और राज्य की भाजपा सरकार के आ रहे है, फर्जी डिग्री हो या घोटाला हो भाजपा की बहुमति की सरकार विवाद से थम नहीं रही… छत्तीसगढ़ पीडीसी घोटाला 36000 करोड़ का घोटाला सामने आया था, वेसे ही व्यापम का मेगा घोटाला जिसमे 50 से अधिक लोगो की जान भी गई थी, और राजस्थान का 46000 करोड़ का कोयला घोटाला केग ने पकड़ा है…

एक खबर के अनुसार, दिल्‍ली में आयोजित एक प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाना ने कहा कि घोटाला मोदी सरकार के उद्योगपति मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिए किया गया।

सुरजेवाला ने कहा, ”45,000 करोड़ रुपए का एक बड़ा घोटाला मोदी सरकार ने छिपाकर रखा है, जो पारदर्शिता की बात करते हैं। पीएम मोदी, जो कहा करते थे कि ‘ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा’ ने फिर साबित कर दिया है कि ये वादा भी झूठा था। यह टेलीकॉम घोटाला 45,000 करोड़ रुपयों का है और मोदी सरकार के उद्योगपति दोस्‍तों को फायदा पहुंचाने के लिए किया गया।”

उन्‍होंने यह भी कहा कि सरकार ने छह टेलीकॉम कंपनियों पर जुर्माना नहीं लगाया, बल्कि उन्‍हें बचाया। सुरजेवाला ने कहा, ”छह टेलीकॉम कंपनियों की मदद मोदी सरकार ने फाइन ना लगाते हुए की है, उन्‍हें बचाने की कोशिश की गई है।”

2012 से 2016 तक के 14000 करोड़ इन टेलीकोम कम्पनी ओ के बकाया निकल रहे थे, जो सरकार ने प्राइवेट कम्पनी ओ से ऑडिट करवा के पूरा करवा दिया, सरकार के नियम अनुसार इन बड़ी कम्पनी ओ में ऑडिट CAG (केग) को करनी चाहिए, उसके बदले केंद्र की भाजपा की मोदी सरकार ने प्राइवेट कम्पनी ओ से ऑडिट क्यों करवाया ?

-सरकार की तिजोरी से जो पैसा कम्पनी ओ के फायदे के लिए माफ़ किया जाता है क्यों ?

इलेक्शन के पहले कोंग्रेस की यूपीए सरकार को दिन रात घोटाले का नाम लेके जनता से वोट लिए.. और ना ही आज तक मोदी सरकार ने कोई जांच की और ना ही कोई मुकदमा दर्ज किया.. भारी बहुमत वाली सरकार ने कोई कदम ना उठा के विपक्ष की कोंग्रेस सरकार को साफ़ सुथरी साबित कर दिया..

2 COMMENTS

  1. India is not a poor country but peoples of India are poor except 1% corrupt politician and other Govt. officials. Majority of peoples are busy in their livelihood and politicians want to keep them in this state. In Govt offices also, higher officials want their work force in this conditions.

LEAVE A REPLY